Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2020

Life's deep thoughts☺️❤️

Life's deep thoughts   Have you ever found yourself pondering life? We’ve all had those spilt second moments of clarity that give us a peek into life’s true meaning. It’s these random flashes of complete understanding that make it seem like we have our feet on the ground and our heads on straight. Sometimes they’ll hit you as you’re laying in bed waiting for sleep to come. Sometimes they overwhelm you when you’re immersed in nature. Sometimes they just come out of nowhere and shakej you to your core. No matter the time or place, these eye-opening moments of reality always manage to put things into perspective and stress how crazy this adventure called life is. Over the years, I’ve experienced these deep thoughts when I least expect them, but they always serve as great reminders to appreciate my time on this earth and to spend it wisely. So if you’re in one of those moods where you’re searching for some inspiration or just need to take a step back to see the bigger picture, you’ve c

सोच बदलो देश बदलेगा

 हमसे ही ये भारत है, हम यंगस्टर्स ही इस देश का भविष्य है,और आने वाला कल भी हमसे ही है, हमारी सोच ही गिरी हुई होगी तो , हमारा आज का समाज और आने वाला समाज भी गिरा हुआ होगा, इसलिए सोच बदलो देश बदलेगा।। लड़की को तो हम बचपन से उसे उसकी हद्द में रहना शिखाते है, पर लड़के को बचपन से कभी ये नहीं शिखाते की उन्हे अपनी औकात में रहना चाहिए , एक लड़की अगर छोटे कपड़े पहनती तो ये समाज बोलता है , लडकिया लड़कों को इन्वाइट कर रही है कि आओ मुझे छेडो , जब एक लड़का शॉर्ट्स और ग्नगी में निकलता है,  तो ये समाज उन्हे कोई क्यों नहीं कुछ बोलता  सोच बदलो देश बदलेगा ।। अगर किसी लड़की के साथ कुछ गलत हो रहा है , उसे मोलेस्ट किया जाता है पब्लिक की आंखों के सामने  तो ये पब्लिक ही है जो खड़े होकर उनका वीडियो जरूर बनाएगी मगर बचाने नहीं जाएगी क्युकी वो उनकी बहन बेटी थोड़ी है , खुदा ना खस्ता अगर उन दरिंदो की वजह से कहीं आपकी बेटी या बहन उस मुसीबत में ना पड़ जाए  सोच बदलो देश बदलेगा ।। ये मत भिलो जो ये दुनिया चल रही है सिर्फ और सिर्फ  जगत -जननी की वजह से ही चल रही है , जिसके तुम अंश हो , जो तुम मंदिरों में पूजते हो काली ,

नज़्म बहार ❤️

 १.      बनना है मुझे वो चाहत तेरी के       जिसकी बाद तेरी कोई चाहत ना रहे       रूह में उतर जाना है        कुछ इसकदर तेरे       सांसों के दरमियान कोई आहट ना रहे            ख्वाहिश❤️ २.        ख़ामोश नज़रें बाता रहीं है       दिल में तेरे कोई और ही है       कसम खुदा की महफूज़  करलो        ये जन्नत जो नज़रों से सजा रही है..!               Adarsh ३.       माना कि दिल अभी डरा हुआ है       एक अनकहे खामोशी से भरा हुआ है,       ख्वाहिशों से भरी ज़िन्दगी के कई मायने है       यहां ख़्वाब देखना सज़ा है       गर       पूरा ना के सको       ये किस्मत - ए- दिल की रजा है..!            Adarsh 💕 ४.  हर रोज रातों से लड़कर मैंने  एक खूबसूरत सुबह पाया है, कुछ इसी तरह मैंने अपने ज़िन्दगी में कई मुस्किलों को आजमाया है..! ज़िन्दगी ने कई बार मेरे ख्वाबों से रुख़ मोड़ा है हर बार मैंने अपनी मेहनत से उसका गुरूर तोड़ा है..! ख़ैर ये शहर तो घर है अजनबियों का ये शहर तो घर है अजनबियों का, यहां किसने किसको अपनाया है? बस इसी तरह मुझे भी ज़िन्दगी जीना आया है..!  Adarsh ५ . एक अजनबी शोर का हिस्सा हो तुम ख़ैर बहुत ह

बेटी अपने पापा की जान❤️

  आयेगी धूप जब कभी     तेरी छाया बन जाऊंगा मैं चुराकर इन आंखों से हर आंसू गम का    ख़ुशी से तुझे वाक़िफ करवाऊंगा मैं अक्स है तू मेरा और तूं ही मेरी पहचान है  पापा की तूं प्यारी सी, नन्ही सी जान है।     नहीं दिखाऊंगा सपना तुझे कि कोई राजकुमार आयेगा   तेरे सपनों के लिए तूं खुद सब करेगी इतना काबिल तुझे बनाऊंगा   नहीं है तूं पराई अमानत और ना ही समाज की झूठी शान है   मज़बूत रहना है तुझे हर हाल में यही मेरा अरमान है। होती है तकलीफ़ मुझे भी जब तूं उदास हो जाती है  तेरी खामोशी उस वक़्त मेरे अंदर शोर मचाती है तेरी वो प्यारी प्यारी बेमतलब की बातें मुझे बहुत लुभाती हैं   तेरे लिए छोड़ दूं मैं ये दुनिया, तूं ही तो मेरे प्यार की निशानी है।    हाथ पकड़ कर तेरा मैं आज तुझे संभालता हूं  आने वाले कल के लिए तेरे सहारे को निहारता हूं नहीं है तुझसे ज़रूरी कुछ और ना ही तूं कोई दान है प्यारी सी तू गुड़ियां मेरी, मेरा तूं अभिमान है।  नहीं दूंगा तुझे गिरने मैं और ना ही रुकना सिखाऊंगा तेरे क़दमों के निशान पर मैं भी अपनी मंज़िल को पाऊंगा करता हूं तुझसे वादा आज एक कि बस इतना करता जाऊंगा   जब भी आयेगा अंधेरा करीब